Wanting to get in a Poetic Mood? Or wanna create a Romantic atmosphere around u by some Poetry? Get the Best of them here.
KEEMIYA

Khuda bhi sochta tha ik din Banaa kar yeh saari khudaai
Ki kaisay ik fikr nay rach di Yeh tamaam tilsmee sachaai

Ki kaisay khwaabgaahoN ko ghumaan-e-yaqeeN honay lagaa
Magar khwaabgaahoN ki haqeeqat bhi haqeeqat hai
Yeh traadeed ka dilfaryeb fasoon
Sadaaqat bhi fasaanaa hai,fasaanaa bhi sadaaqat hai

Yeh rooh-e-takhleeq,khuda sochta thaa
Kaisay kaisay pardon main khud ko chupaati hai
Vaham-e-yaqeeN to kabhi Yaqeen-e-vaham ban ban kar
Ghrift say har baar phisal jaatee hai

Aur khuda nay socha---
Yeh saaraa tilism meri ik fikr nay rachaayaa!
Magar..magar yeh fikr meray zehan main kisnay basaayaa?
__________________

कीमिया (Alchemy)

ख़ुदा भी सोचता था इक दिन बना कर यह सारी खुदाई
कि कैसे इक फ़िक्र ने रच दी यह तमाम तिलस्मी सच्चाई (magical)

कि कैसे ख्वाब्गाहों को गुमान-ए-यक़ीन होने लगा (स्वप्नलोक)(belief of being real)
मगर ख्वाब्गाहों की हक़ीक़त भी हक़ीक़त है
ये तरादीद का दिलफरेब फ़सून (contradiction) (magic)
सदाक़त भी फ़साना है,फ़साना भी सदाक़त है (सच्चाई)

ये रूह-ए-तख्लीक,खुदा सोचता था (spirit of creativity)
कैसे कैसे पर्दों में ख़ुद को छुपाती है
वहम-ए-यक़ीन तो कभी यक़ीन-ए-वहम बन बन कर
गरिफ्त से हर बार फिसल जाती है

और ख़ुदा ने सोचा ---
यह सारा तिलिस्म मेरी इक फ़िक्र ने रचाया !
मगर....मगर यह फ़िक्र मेरे ज़ेहन में किसने बसाया ?
__________________
ADVERTISEMENT